कविता संग्रह "हमिंग बर्ड"

Friday, January 23, 2015

वहीँ कामयाब होते हैं जो
घोर अन्धकार में बिजली कौंधने का इंतज़ार नहीं करते बल्कि
कोशिश करते हैं शमा जलाने की
बेशक पत्थर पर पत्थर पटक कर चिंगारी निकालने की कोशिश करें smile emoticon
------------------
हम होंगे कामयाव "एक दिन" :)

1 comment:

  1. aisi prerak soch.....marg swaymev prashast hoga....

    ReplyDelete